Choose Language:

लैक्टेज की कमी का निदान

  • H2 श्वसन जांच: छोड़ी गई श्वास में H2 का पाया जाना क्योंकि आंत्र में बैक्टीरिया लैक्टोज का निर्माण करने वाली हाइड्रोजन (H2) का उपयोग करते हैं। 50 ग्राम लैक्टोज लेने के बाद, सांस में हाइड्रोजन के > 20 पीपीएम (50 प्रति मिलियन भाग) बढ़ने से इसकी पुष्टि होती है।
  • लैक्टोज पाचन न होने की जांच (एलटीटी): रक्त ग्लूकोज में कमी होने या वृद्धि न होने का पता लगना। एक असामान्य एलटीटी का मतलब है कि 50 ग्राम लैक्टोज लोड देने के तीस मिनट बाद भी रक्त ग्लूकोज में कोई वृद्धि नहीं होती है।
  • मल की अम्लता जांच: मल पीएच का पता लगाना क्योंकि लैक्टोज के किण्वन से लैक्टिक एसिड और अन्य एसिड बनाते हैं जिन्हें मल के नमूने में पाया जा सकता है।
  • नए परीक्षण: रक्त या लार का आनुवंशिक परीक्षण

लैक्टोज पाचन न होने की समस्या का निदान

  • लैक्टोज चैलेंज जांच : 500 मिलीलीटर दूध (25 ग्राम लैक्टोज) लें, आदर्श रूप से घर पर लें, उसके बाद 1-3 घंटे तक उपवास करें। यदि आपको पेट में दर्द, गैस, ऐंठन, पेट फूलना या दस्त जैसे लक्षण होते हैं; तो आपको लैक्टोज पाचन न होने की समस्या है।