Choose Language:

शिशु के पेट का दर्द एक आम समस्या है, जिसके लक्षण अत्यधिक रोना और बेचैनी होते हैं, विशेषरूप से शाम और रात में। शिशुओं को अक्सर अपने पैरों को अपने पेट की तरफ खींचते देखा जा सकता है, जैसे कि वे काफी दर्द में हैं।

पेट दर्द के लक्षण

पेट दर्द के मुख्य लक्षण हैं:
  • बिना किसी स्पष्ट कारण के और बच्चे को चुप कराने के कई प्रयासों के बावजूद बच्चा लंबे समय तक रोता रहता है, कई बार बच्चा बहुत जोर-जोर से रो सकता है। ये लक्षण प्रत्येक दिन अक्सर दोपहर या शाम के समय और भोजन के बाद देखने को मिलते हैं
  • बच्चे के पेट में गैस बनने के लक्षण देखे जा सकते हैं या फूला हुआ पेट दिखाई देता है जो टाइट होता जाता है। रोते वक्त, बच्चा पेट के दर्द के लक्षण दिखा सकता है जैसे कि अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर खींचना, मुट्ठियां भींचना, हाथ और पैर पीटना या पीठ मोड़ना
  • बच्चे को अक्सर नींद नही आती है, चिड़चिड़ापन या घबराहट महसूस करता है

अध्ययनों से पता चला है कि कुछ बच्चों में पेट दर्द का एक महत्वपूर्ण कारण अस्थायी लैक्टेज की कमी होना होता है। यह माना जाता है कि यह बच्चों के अपरिपक्व पाचन तंत्र के साथ पैदा होने के परिणामस्वरूप होता है, जिसके कारण वे दूध में लैक्टोज को पचाने के लिए पर्याप्त मात्रा में लैक्टेज एंजाइम का उत्पादन नहीं कर पाते हैं। यदि आपका बच्चा दूध के लैक्टोज को पचाने में सक्षम नही है, तो उसे माँ का दूध पीने या दुग्ध पदार्थ जैसे पनीर या दही खाना खाने के लगभग 30 मिनट से 2 घंटे के भीतर दस्त, पेट की ऐंठन, पेट का फूलना या गैस की समस्या हो सकती है।

शिशु के पेट का दर्द एवं लैक्टोज को न पचा पाने की समस्या के प्राकृतिक और सुरक्षित उपाय के लिए, भारत में पहली बार यामू ड्रॉप्स (लैक्टेज एंजाइम ड्रॉप्स) को पेश किया गया है जो लैक्टोज को तोड़ने में मदद करती हैं, और इस प्रकार इससे लैक्टोज को न पचा पाने की समस्या दूर होती है।

अध्ययनों से पता चला है कि शिशुओं का पेटी का 70% लैक्टोज असहिष्णुता के कारण है

जूमला डिबग कंसोल

सत्र

प्रोफ़ाइल जानकारी

मेमोरी उपयोग

डेटाबेस क्वेरी